Gulmohar ka Dard | गुल्मोहर का दर्द

कहने को तो दोनो के घर आमने -सामने थे, मगर वो चंद कदम का फासला किसी सागर से कम नहीं था।एक अदद कशिश थी उसकी आवाज़ में, जो हर किसी को जो हर किसी को अपना दीवाना बना देती थी।उसका हर एक लफ्ज़ जैसे कानो में मिश्री गोल देता था…..

वो जब भी अपनी सखियों संग चाँद की रौशनी में टहलने निकलती थी, वो लड़का अक्सर चाँद हो जाया करताथा।बीहड़ो का वो अल्हड लड़का, जब भी घर से निकलता ,आँखे हमेशा उसे ही तलाश रही होती थी।चाहे CKD हो या BBC उसे तो बस एक बहाना चाहिए होता था उसको एक नज़र निहार ने का, जैसवो उसकी धड़कने बन चुकी थी…..

वो अक्सर उससे बात करने की कई नाकाम कोशिश करता, उसको देखने के लिए labs और classes बंक करा करता था…

माल रोड की की उन हसीं सड़को पर जहां लड़को की नज़रे कुछ बर्फ सी हो जातीथी,वहा वो गुलमोहर के पेड़ के पीछे से उसे ताका करता था,उसे निहारा करता था….

कुछ दिनों से वो कुछ व्यस्त सी दिखाई पड़ती थी,
नयी उम्र भरपूर अंगड़ाई ले रही थी, और उस गाफलत मे ये भी कहा बचने वाली थी,छुट्टी का समय था,वो अपने एक दोस्त के साथ उसकी तलाश में था….

वो किसी और का हाथ थामे पार्क में घूम रही थी..बेचारे का दिल धक्क् रह गया,आज पहली बार उसे campus की फ़िज़ा में ऑक्सीजन की कमी महसूस हो रही थी…..वो पार्क में घूम रही थी…जाती हुई बस में गाना बज रहा था…

“इश्क़ अगर एक तरफ हो तो सजा देता है,
और अगर दोनों तरफ हो तो मज़ा देता है”..

..वो अभी भी वहीं खड़ा था अपने दोस्त के साथ….

गुलमोहर के पेड़ के पीछे…

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s